All BlogsHealth

पेट दर्द और गैस क्यों होता है || पेट में दर्द का अचूक उपाय

Spread the love

पेट दर्द और गैस का अचूक उपाय

गैस बनना एक सामान्य की प्रक्रिया है जो आपके शरीर में निरंतर चलती रहती है लेकिन जब उसकी वजह से दर्द होने लगे तब यह कष्दायक हो सकती है। भोजन करते समय भी खाने के साथ कुछ मात्रा में गैस निगलना बहुत ही सामान्य सी प्रक्रिया है। इसी के साथ डाईजेस्टिव सिस्टम में भी गैस का उत्पादन होता है क्योंकि लार्ज इंटेस्टाइन में बैक्टीरिया कुछ खाद्य पदार्थों को तोड़ देते हैं। गैस अपनी प्रकृति के अनुसार शरीर के अंदर भी घूमता रहता है एक जगह पर नहीं पाया जाता है और यही गैस से होने वाले पेट दर्द की पहचान भी है कि वह कभी एक जगह पर नहीं होगा बल्कि पेट और शरीर के दूसरे हिस्से में भी स्थानन्तरित होता रहता है। गैस के कारण होने वाले पेट दर्द में पेट का फूलना और टाइट होना एक लक्षण हो सकता है। 

ये भी पढ़े : रुके हुए पीरियड्स लाने के उपाय

पेट दर्द और गैस के कारण

मनुष्य के शरीर में गैस कई कारणों से बन सकता है। मानव शरीर मुख्यतः पांच मुलभुत तत्वों से मिलकर बना हुआ है जो इस प्रकार है – अग्नि, जल, वायु, आकाश और पृथ्वी। जब तक इन पंचतत्वों का संतुलन शरीर में बना रहता है तब तक शरीर स्वस्थ रहता है लेकिन किसी भी एक तत्व की मात्रा घटने या बढ़ने पर विभिन्न बीमारियां शरीर में घर कर लेती हैं। इसी क्रम में जब शरीर की वायु की मात्रा बढ़ जाती है तो गैस की समस्या होती है और पेट में दर्द शुरू हो जाता है।

जब तक इंटेस्टाइन में गैस घूमती रहती है तब तक कोई दिक्कत नहीं होती है लेकिन जब गैस का बुलबुला बन जाता है और वह शरीर के बाहर निकलने में असमर्थ होता है तो दर्द बढ़ने की सम्भावना बढ़ जाती है। यह कई कारणों से हो सकता है –

  • कॉन्स्टिपेशन 
  • आईबीएल (इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम )
  • कार्बोनेटेड खाद्य पदार्थ के सेवन से 
  • खाद्य पदार्थ के पाचन में होने वाली परेशानी 

ये भी पढ़े : सुबह-सुबह खाली पेट पानी पीने के फायदे कौन से है ?

पेट दर्द और गैस के उपाय:

पेट दर्द और गैस की समस्या आजकल बहुत आम बात हो गयी है और ज्यादातर केसेस में यह अपनेआप ठीक भी हो जाता है लेकिन जब दर्द ज्यादा हो तो आप डॉक्टर की सलाह से दवाई ले सकते हैं या घर पर नहीं कुछ कारगर उपाय कर सकते हैं। 

हर्बल उपचार :

अगर आपका पाचन तंत्र सही है तो पेट दर्द और गैस की शिकायत कम होती है लेकिन पाचन में समस्या होने पर पेट दर्द जैसी दिक्कत का सामना करना पड़ता है इसलिए आप पेपरमिंट और पेपरमिंट आयल का इस्तेमाल कर सकते हैं साथ ही अन्य हर्बल उपचारों का प्रयोग कर सकते हैं। 

व्यायाम :

नियमित रूप से व्यायाम करने से पाचन तंत्र रहता है और कब्ज की समस्या से भी राहत मिलती है इसलिए आप गैस के कारण होने वाले पेट दर्द से बचने के लिए व्यायाम जैसी अच्छी आदतों को अपने दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। जिन लोगों को व्यायाम करने में दिक्कत है वो नार्मल वॉक भी कर सकते हैं यह भी सामान रूप से लाभकारी होगा। 

फार्ट और डकार :

यह बहुत नॉर्मल सी क्रिया है जिसके बारे में बात करने में लोग शरमाते हैं लेकिन गैस और पेट दर्द से छुटकारा पाने में यह एक रामबाण तरीका है। आपको जब भी गैस महसूस हो फार्ट या डकार को न रोकें क्यूंकि इसी से बाद में पेट में दर्द हो सकता है। फार्ट की बदबू को अवॉयड करने के लिए आप शराब, गोभी, ब्रोकली जैसे पदार्थों के सेवन से बचने की कोशिश कर सकते हैं। 

पेट की मालिश : 

गैस और कब्ज दोनों की शिकायत होने पर पेट की मालिश बहुत उपयोगी साबित हो सकती है। आप हाथ की उँगलियों को गोलाकार बनाकर पेट पर दाहिने तरफ से ऊपर और बाईं और से निचे की तरफ घूमते हुए मालिश करें। 

अजवाइन :

गैस से होने वाले पेट दर्द में अजवाइन आपकी काफी मदद कर सकता है। आप एक चौथाई चम्मच अजवाइन को एक गिलास गुनगुने पानी के साथ ले और उसके बाद बायीं हाथ की तरफ करवट लेकर 15 मिनट के लिए लेट जाएँ। यह घरेलु तरीका आपको पेट दर्द से राहत दिलाने में जरूर सहायक होगा। गर्मी के मौसम में आजवाइन को आप दूसरे तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं। एक चौथाई चम्म्च आजवाइन को एक चौथाई चम्मच चीनी और एक चुटकी काला नमक के साथ मिक्स कर ले और फिर एक गिलास पानी में इसे मिलाकर उसमे आधे निम्बू का रास भी मिला लें। इस मिश्रण के सेवन से आपको पेट दर्द से राहत मिलेगी। 

हींग :

आप चुटकी हींग को कुछ बून्द पानी के साथ मिलाकर लिक्विड बन लें और एक सूती कपडे या कॉटन के टुकड़े को इसमें भिगोकर नाभि के ऊपर रखें इससे आपको पेट के दर्द से राहत मिलेगी। 

उम्मीद है की आपको ये पोस्ट पेट दर्द और गैस का अचूक उपाय पसंद आया होगा आज कल लोग गैस की समस्या से बहुत परेशान रहते है इसलिए इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *