All BlogsHealth

सिर दर्द का इलाज – Sir Dard ka ilaj | Home Remedies for Headache in Hindi

Spread the love

सिर दर्द का इलाज – Headache in Hindi

आजकल सिरदर्द की समस्या काफी आम हो गई है। सिरदर्द होने के कई कारण हो सकते है जैसे तनाव, नींद पूरी न होना, work load आदि। सिरदर्द बने रहने से हमारा पूरा दिन खराब जाता है। ऐसे में हम कोई भी काम ठीक से नहीं कर पाते हैं और हमें चिड़चिड़ापन महसूस करने के साथ साथ गुस्से का भी अनुभव करते है, जिसका असर हमारे काम पर भी पड़ता है। ज्यादतर लोग Headache से राहत पाने के लिए तुरंत दवा खा लेते है। लेकिन बार बार होने वाला सिरदर्द हमारे शरीर को धीरे-धीरे नुकसान पहुंचा सकता है। आज इस लेख से हम आपको सिरदर्द के कारण के साथ सिर दर्द का घरेलू इलाज के बारे में बताएंगे। 

सिर दर्द क्या है?- What is Headache in Hindi

सिरदर्द, एक सामान्य स्वास्थ्य समस्या है जिसका विशेषरूप से सिर में दर्द होता है। यह एक आम समस्या होती है और अक्सर लोगों को बार-बार प्रभावित करती है। Headache कई तरह के हो सकते हैं, और इनके कई कारण हो सकते हैं। इस लेख में हम सिर दर्द का इलाज कारणों, प्रकारों के बारे में विस्तार से जानेंगे।

और पढ़े – सुबह-सुबह खाली पेट पानी पीने के फायदे कौन से है ?

सिर दर्द के प्रकार- Types of Headache in Hindi

  • माइग्रेन: माइग्रेन एक प्रकार की सिरदर्द होती है जिसमें तेजी से बढ़ने वाला दर्द, उल्टी, और अत्यधिक संवेदनशीलता होती है। माइग्रेन आमतौर पर एक तरफ की सिर में होती है और अक्सर रौशनी, शोर, या सुगंध के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होते हैं।
  • टेंशन सिरदर्द: टेंशन सिरदर्द आमतौर पर स्थायी दर्द के रूप में होता है जो सिर के दोनों पक्षों में हो सकता है। यह अक्सर तनाव, चिंता, या दिनचर्या में बदलाव के कारण होता है।
  • साइनसिटिस: साइनसिटिस से जुड़े सिरदर्द ज्यादातर सिर के पिछले हिस्से में होता है और नाक में बंद होने के कारण हो सकता है।
  • क्लस्टर सिरदर्द: यह एक बेहद दर्दनाक सिरदर्द होता है जो अक्सर एक नकारात्मक गठिया के साथ होता है। यह आमतौर पर एक सिर में होता है और कुछ हफ्तों या महीनों तक बरकरार रह सकता है, फिर विलीन हो जाता है।

सिरदर्द के लक्षण – Sir Dard ke Symptoms

सिरदर्द के लक्षण कई तरीके से हो सकते है। बहुत से व्यक्ति के दर्द के प्रकार और कारण के अलग अलग आधार पर निर्भर करते है, लेकिन कुछ सामान्य लक्षण होते हैं। इनमें सिर के किसी एक भाग में या दोनों भागों में दर्द होना, उबकाई आना, और उत्तेजना शामिल हो सकती है। 

वहीं माइग्रेन के लक्षण में उल्टी, दिक्कत से दिखाई देने वाले रौशनी, शोर, और बदहवासीता भी हो सकती है। सिरदर्द के लक्षणों को ध्यान से जांचना और सही उपचार की तलाश करना महत्वपूर्ण होता है।

और पढ़े –  फूड पाइजनिंग के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

सिर दर्द के कारण – Causes of Headache in Hindi

सिरदर्द लगभग 300 प्रकार के होते हैं और उनमें से कुछ ही के कारण आपके और हमारे सामने होते हैं। आइए उन्हीं में से कुछ प्रमुख कारण जानते हैं:

1. तनाव और चिंता: तनाव और चिंता सिरदर्द के मुख्य कारणों में से एक हो सकते हैं। यह तनावकालीन जीवनशैली और बार-बार स्ट्रेस का कारण हो सकता है।

2. आँखों की समस्याएँ: आँखों की समस्याएँ भी सिरदर्द का कारण बन सकती हैं।

3. बाहरी कारण: प्रदूषण, धूल, धुएं, या वायरस जैसे बाहरी कारणों के संपर्क में आने से भी सिरदर्द हो सकता है।

4. आहार: आज के समय में लोग ऐसे आहार का सेवन करने लगे है जिसमें पाए जाने वाले हानिकारक तत्वों से उनका लगातार सिरदर्द बना रह सकता है, जैसे कि अधिक कॉफिन, अल्कोहल, या प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ आदि।

5. तेज धूप और गर्मी: अकसर ऐसा देखा जाता है कि तेज धूप और गर्मी का कारण कई लोगों को सिरदर्द परेशान करने लगता है। तेज धूप से से तापमान में बढ़ती गर्मी लोगों के लिए डिहाइड्रेशन और हार्ट स्ट्रोक का जैसी समस्याओं का कारण बनता है।

6. पेट में गैंस बनना: पेट में गैंस बनने से भी सिर में दर्द हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि एसिड रिफ्लक्स के कारण शरीर में एसिड बनने लगता है, जिसके कारण सिर में दर्द, खट्टी डकार, और उल्टी जैसा महसूस होता है। 

7. माइग्रेन: माइग्रेन एक तरह की सिरदर्द होती है, जिसमें तेजी से बढ़ने वाला दर्द, उल्टी, और संवेदनशीलता होती है। 

8. विटामिन बी12 की कमी: अगर आपको लगातार सिर में दर्द बना रहता है और भूलने की बीमारी हो लगी है तो आप सावधान हो जाए क्योंकि आपको विटामिन बी12 की कमी हो गई है। विटामिन बी12 आपके शरीर में खुद से नहीं बनता है, इसके लिए आपको अपने भोजन का सहारा लेना पड़ता है।  

सिरदर्द का आयुर्वेदिक उपचार- Sir Dard ka Ayurvedic ilaj

सिरदर्द का नेचुरल तरीके से इलाज हमारे आयुर्वेदिक उपचार की पुरानी पद्धति पंचकर्मा में शामिल है। पंचकर्मा का मतलब है पांच क्रियाओं में वमन, विरेचन, उत्तर बस्ती, नस्या और रक्तमोक्षण शामिल हैं। इसमें शिरोधारा, नस्या, और विरेचन क्रियाएँ शामिल होती हैं जो वात, पित्त, और कफ को संतुलित करने में मदद कर सकती हैं। यह आयुर्वेदिक तरीका सिरदर्द को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है।

  • वमन: यह प्रक्रिया माइग्रेन और क्लस्टर सिरदर्द के इलाज में मदद कर सकती है। वामन में विशेष आहार और शुद्धिकरण के लिए विशेष आम्लीय और तीक्ष्ण द्रवों का सेवन किया जाता है जिससे शरीर से अनिच्छिन्न विषाक्ति होती है।
  • नस्या: नस्या औषधि सिर के नासिका मार्ग से देने की प्रक्रिया है जिससे नसों में उपादृत दोषों का निकाला जाता है। इससे सिरदर्द कम हो सकता है और माइग्रेन को भी बेहतरीन तरीके से नियंत्रित किया जा सकता है।
  • शिरोधारा: यह आयुर्वेदिक प्रक्रिया मस्तिष्क को शांति देने में मदद कर सकती है और सिरदर्द को कम कर सकती है। इसमें शिरों पर तेल का स्थिर धारा मन को शांत करने के लिए गिराया जाता है।
  • स्वेदन: एक अन्य प्रमुख पंचकर्मा प्रक्रिया है स्वेदन जिसमें शरीर को पारिश्रामिक गर्मी से अच्छी तरह से सेंसेटाइज किया जाता है। यह सिरदर्द को कम करने में मदद कर सकता है और तनाव को कम करने में सहायक हो सकता है।
  • बस्ती: बस्ती पंचकर्मा में आयुर्वेदिक औषधियों को गुदा के माध्यम से दिया जाता है। यह आयुर्वेदिक उपचार सिरदर्द को ठीक करने और उसकी प्राकृतिक गुणधर्मों को सुधारने में मदद कर सकता है।

आयुर्वेद में पंचकर्मा उपचार सिरदर्द को नियंत्रित करने और उसके कारणों को दूर करने में मदद करते हैं। यह उपचार विशेषज्ञ आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्श के तहत किए जाने चाहिए।

सिर दर्द का घरेलू इलाज- Home Remedies for Headache in Hindi

  • अदरक और निम्बू का रस: सिरदर्द से राहत पाने के लिए, अदरक और निम्बू का रस मिलाकर पीना फायदेमंद हो सकता है। इससे सिरदर्द कम हो सकता है।
  • आयुर्वेदिक औषधियाँ: आयुर्वेदिक दवाओं में ब्राह्मी, शंखपुष्पी, और जटामांसी जैसी जड़ी-बूटियाँ सिरदर्द के इलाज के लिए प्रयुक्त होती हैं।
  • प्राणायाम और योग: सिरदर्द से निपटने के लिए, प्राणायाम और योगाभ्यास बहुत महत्वपूर्ण हो सकते हैं। योगासनों में शवासन, भ्रामरी, और अनुलोम-विलोम कासने के उपयोगी हो सकते हैं।
  • आहार और पानी: साफ और स्वास्थ्यपूर्ण आहार खाना और पर्यापन की दिशा में ध्यान देना सिरदर्द को रोकने में मदद कर सकता है। पर्यापन में पानी की पर्यापन करें, ताकि शरीर ठीक से हाइड्रेटेड रहे।
  • समय पर नींद: पर्यापन में पर्यापन करें, ताकि शरीर ठीक से हाइड्रेटेड रहे।

सिर दर्द का इलाज में उपरोक्त सुझावों का पालन करना Headache से राहत प्रदान कर सकता है। फिर भी, सिरदर्द की गंभीर स्थितियों में या लंबे समय तक बने रहने पर डॉक्टर से सलाह लेना महत्वपूर्ण हो सकता है। आपको पोस्ट पसंद आयी हो तो इसको दुसरो तक जरूर शेयर करे ताकि वो भी अपने सिर दर्द का घरेलू इलाज कर सके।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *